Follow Us

Hindustancalling

Hindustan Calling

सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा

जानें अघोरियों की रहस्यमयी दुनिया के बारे में !!

अघोरी साधुओं की दुनिया बडी रहस्यमयी होती है। ये साधु अक्सर एंकात में रहते है लेकिन इनका जीवन कैसा होता है अधिकतर दुनिया इससे अनजान ही रहती है। अघौरियों के बारे में कई तरह तरह की बातें हम अक्सर न्युज चैनल और समाचार पत्रों में पढते रहते है। जिसमें बताया जाता है कि अघोरी शमशान में पुजा करते है कहीं यह बताया जाता है कि अघोरी बहुत गंदे रहते है और वह सिद्धियां प्राप्त करने के लिये शवों के साथ भी तंत्र साधना करते है। इन सब बातों में कितनी सच्चाई है आज भी लोगों का इसको लेकर मतभेद है लेकिन आज हम अघोरियो से संबधित आपकी सभी जिज्ञासाओं को शांत करने का प्रयास करेगें आइये जानते है अघारियों की रहस्यमयी दुनिया के बारे में।


बेहद सहज और सरल
अघोरी साधु हिंदू धर्म के एक सप्रदाय अघोर पंथ से आते है। अघोरियों को भगवान शिव का जीवित स्वरूप भी माना जाता है। ये आम मानव बस्तियों से दूर एंकात और शमशान जैसी जगहों पर निवास करते है। अघोरी पंथ का इतिहास बहुत पुराना है और ये कपालिक संप्रदाय के समकक्ष माने जाते है। ये शैव पंथ से संबध रखते है जो सबसे पुराने पंथो में से एक माना जाता है। अघोरी का मतलब होता है जो घोर नहीं हो जो सहज हो और सरल हो उसके लिये हमारे समाज के बनाये कोई नियम कायदे ना हो जिसके मन में कोई भेदभाव ना हो। अघोरियों के लिये भौतिक वस्तुएं कोई मायने नहीं रखती। उन्हें सडते जीव का मांस खाने में भी उतना ही आनंद आता है जितना स्वादिष्ट मिठाईयां खाने में।


कितनी तरह की साधनायें करते है अघोरी
अघोरीयों की साधना का तरीका भी बिलकुल अलग होता है। ये मुलतः तीन तरह की साधनायें करते है। शिव साधना, शव साधना और शमशान साधना। शिव साधना में भगवान शिव की कठोर साधना की जाती है। शव साधना में शव के उपर पैर रखकर साधना की जाती है इस साधना का मूल भगवान शिव की छाती पर काली माता का रखा पैर है। इस साधना में मुर्दे को मांस और मदिरा चढायी जाती है। इसके अलावा तीसरी साधना होती है शमशान साधना इसमें साधना का तरीका थोडा साधारण होता है इसमें शव की जगह दाहसंस्कार के स्थान की पूजा की जाती है। उस जगह गंगा जल चढाया जाता है और प्रसाद के रूप में भी मांस की जगह मावे और मीठे का प्रयोग किया जाता है। इस साधना में साधक के साथ उसके परिवार वाले भी सम्मिलित होते है।


साधना के लिये शव कहां से लाते है
अघोरी अक्सर अपनी साधना के लिये शव का उपयोग करते है। हिन्दुओं में अंतिम संस्कार के लिये शव का दाह संस्कार होता है। लेकिन सांप के काटने पर, आत्महत्या करने पर यो छोटी उम्र के बच्चों को दाह संस्कार के बजाय दफनाया जाता है। इसके अलावा अंतिम संस्कार के लिये कई जगह शव को नदी में बहा दिया जाता है। पानी में तैरते इन शवों को अघोरी अपनी साधना के लिये उपयोग में ले लेते है। शव साधना करने के साथ ही ये शव का मांस भी खा जाते है। इनकी साधना में इतना बल होता है कि ये मुर्दे से भी बातें कर लेते है।


अघोरियों के लिये प्रमुख साधना के स्थल
अघोरी अक्सर शमशान या एंकात में रहते है। अक्सर ये अपनी साधना के लिये रात का समय तय रखते है। अघोरियों की साधना के लिये दुनिया में चार ऐसे शमशान घाट है जहां उनकी साधना से जल्द सिद्धियां प्राप्त होती है।

1. तारापीठ
पश्चिम बंगाल के वीरभूमि जिले में तारा देवी का मंदिर है। तारा देवी माता काली के एक रूप में यहां विराजीत है। यह मंदिर इसलिये प्रसिद्ध है कि यहां पर माता सती के नेत्र गिरे थे। इसलिये इस जगह को नयनतारा भी कहा जाता है।मंदिर के पास ही एक शमशान स्थित है जिसे महाशमशान कहा जाता है यहां पास द्वारका नदी बहती है। इस शमशान में दूर दूर से अधोरी साधक साधना करने आते है।

2. कामख्या शक्ति पीठ
तंत्र साधना के लिये कामख्या शक्तिपीठ को सर्वोच्च स्थान प्राप्त है। यह मंदिर असम की राजधानी दिसपुर के पास एक पहाडी पर स्थित है। नीलशैल पर्वतमालाओं में स्थित मां भगवती कामख्या का शक्तिपीठ है जो सभी शक्तिपीठ में सर्वोच्च स्थान रखता है। यहां पर मां भगवती की महामुद्रा योनिकुंड स्थित है। यहां स्थित शमशान से दूर दूर से साधक साधना करने आते है।

3. त्रयंबकेश्वर ज्योर्तिलिंग नासिक
महाराष्ट्र के नासिक जिले में स्थित त्रयंम्बकेश्वर ज्योर्तिलिंग में तीन छोटे छोटे लिंग है जिन्हें ब्रह्मा, विष्णु और महेश का रूप माना जाता है। यहां के ब्रह्म गिरी पर्वत से गोदावरी नदी का उद्गम भी है। भगवान शिव को सभी तंत्र साधना का मुख्य देवता माना जाता है। अघोरवाद और तंत्र का जन्म भगवान शिव से ही हुआ है। यहां के शमशान में भी अघोरी तंत्र साधना करते रहते है।

4. महाकालेश्वर ज्योर्तिलिंग उज्जैन
महाकालेश्वर ज्योर्तिलिंग सभी 12 ज्योर्तिलिंगों में से एक है। इस मंदिर को अत्यंत पुण्यदायी माना गया है। यहां पर पुजा करने से अकाल मृत्यु का दोष भी समाप्त हो जाता है। यहां पर महाकाल की रोजाना भस्म आरती होती है। भगवान शिव का यह स्थान सिद्धियां पाने के लिये सर्वोत्तम माना गया है इसलिये यहां के शमशान में भी अघोरी साधक साधना करने दूर दूर स आते है।

ये भी जरूर पढ़ें :
दुनिया की इस सबसे खतरनाक जनजाति के रीति रिवाज जानकर हैरान रह जायेगें

एक शाकाहारी मगरमच्छ जो करता है मंदिर की सुरक्षा, मरकर दोबारा जिंदा हो जाता है 

 

Related Article

Tags: , ,
  • Most Viewed Posts

  • एस्ट्रोलॉजी [ और पढ़ें ]

    ये कछुए कर देगें आपकी प्रत्येक समस्या का समाधान, पैसा बरसेगा जमकर !

    ये कछुए कर देगें आपकी प्रत्येक समस्या का समाधान, पैसा बरसेगा जमकर !

    April 20, 2018 5:57 pm

    जानें अघोरियों की रहस्यमयी दुनिया के बारे में !!

    जानें अघोरियों की रहस्यमयी दुनिया के बारे में !!

    April 25, 2018 5:16 pm

    खेल [ और पढ़ें ]

    कभी जिताया था वर्ल्डकप , लेकिन इस आईपीएल में किसी ने नहीं खरीदा इन्हें !

    कभी जिताया था वर्ल्डकप , लेकिन इस आईपीएल में किसी ने नहीं खरीदा इन्हें !

    April 10, 2018 2:42 pm

    आखिर क्यों चुने गये रवि शास्त्री भारतीय किक्रेट टीम के कोच ?

    आखिर क्यों चुने गये रवि शास्त्री भारतीय किक्रेट टीम के कोच ?

    July 11, 2017 9:30 pm

    टेक्नोलॉजी [ और पढ़ें ]

    सामने आये जियो के 500 रुपये वाले फोन की तस्वीर और फीचर्सं

    सामने आये जियो के 500 रुपये वाले फोन की तस्वीर और फीचर्सं

    July 16, 2017 10:36 pm

    रिलायंस जियो अपने ग्राहकों के लिए लाया नया धमाका ऑफर

    रिलायंस जियो अपने ग्राहकों के लिए लाया नया धमाका ऑफर

    July 12, 2017 4:03 pm

    ट्रेंडिंग [ और पढ़ें ]

    गुजरात का यह चुनाव कांग्रेस हारकर भी जीत गई !

    गुजरात का यह चुनाव कांग्रेस हारकर भी जीत गई !

    December 18, 2017 6:58 pm

    1.20 लाख की यह जबरदस्त कार देगी 36 किमी प्रति लीटर का माइलेज !

    1.20 लाख की यह जबरदस्त कार देगी 36 किमी प्रति लीटर का माइलेज !

    April 23, 2018 4:51 pm

    देश - दुनिया [ और पढ़ें ]

    एक अपमान ने बदल दी रतन टाटा और टाटा मोटर्स की तकदीर, ये है सफलता की कहानी

    एक अपमान ने बदल दी रतन टाटा और टाटा मोटर्स की तकदीर, ये है सफलता की कहानी

    April 24, 2018 7:46 pm

    एक देश जिसका नामोनिशान मिट गया !

    एक देश जिसका नामोनिशान मिट गया !

    May 19, 2018 4:55 pm

    रोचक खबर [ और पढ़ें ]

    हनुमान जी के सिंदूर चढाने के पीछे ये है असली वजह !

    हनुमान जी के सिंदूर चढाने के पीछे ये है असली वजह !

    April 3, 2018 4:32 pm

    भारत के इस जिले में आज भी मौजूद है यमलोक का दरवाजा !

    भारत के इस जिले में आज भी मौजूद है यमलोक का दरवाजा !

    April 9, 2018 3:55 pm

    व्यक्ति विशेष [ और पढ़ें ]

    देश के इन वीर सपूतो को नवाजा जाएगा अशोक चक्र से

    देश के इन वीर सपूतो को नवाजा जाएगा अशोक चक्र से

    July 20, 2017 2:36 pm

    सम्पूर्ण कश्मीर पर होता पाक का कब्ज़ा, जान की बाज़ी लगा कर बचाया इस शख्स ने कश्मीर को

    सम्पूर्ण कश्मीर पर होता पाक का कब्ज़ा, जान की बाज़ी लगा कर बचाया इस शख्स ने कश्मीर को

    June 24, 2017 2:12 pm

    सिनेमा [ और पढ़ें ]

    50 रूपये से 50 करोड तक का सफर- सिद्धार्थ मल्होत्रा

    50 रूपये से 50 करोड तक का सफर- सिद्धार्थ मल्होत्रा

    January 17, 2018 5:36 pm

    रहस्‍यमयी जीवन के साथ परवीन बॉबी को मौत भी मिली तो गुमनामी की

    रहस्‍यमयी जीवन के साथ परवीन बॉबी को मौत भी मिली तो गुमनामी की

    September 14, 2017 11:48 am

    सियासत [ और पढ़ें ]

    प्रकाश राज क्यों हो रहे है मोदी और शाह विरोधी ?

    प्रकाश राज क्यों हो रहे है मोदी और शाह विरोधी ?

    January 19, 2018 3:39 pm

    बालासाहब ठाकरे कैसे बने एक कार्टूनिस्ट से हिन्दू हृदय सम्राट !

    बालासाहब ठाकरे कैसे बने एक कार्टूनिस्ट से हिन्दू हृदय सम्राट !

    January 24, 2018 7:11 pm

    हेल्थ [ और पढ़ें ]

    बोतलबंद पानी में होते है ये नुकसानदायक तत्व, हो जायें सावधान !

    बोतलबंद पानी में होते है ये नुकसानदायक तत्व, हो जायें सावधान !

    March 19, 2018 8:08 pm

    आखिर क्या है जापानी बुखार अब तक ले चुकी है कईयों की जान

    आखिर क्या है जापानी बुखार अब तक ले चुकी है कईयों की जान

    August 12, 2017 6:06 pm