Follow Us

Hindustancalling

Hindustan Calling

सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा

देश के इतिहास में ऐसा वीर राजा फिर नहीं हुआ !

मेवाड की भूमि जिसे वीरों की भूमि कहा जाता है वहां पर 14 वीं शताब्दी में एक राजा हुये जिनकी वीरता के आगे दुश्मनों ने घुटने टेक दिये थे। ये राजा कभी भी युद्ध में नहीं हारे लेकिन इनकी मृत्यु एक दुखद परिस्थिती में हुयी इन्हें इनके बेटे ने ही धोखे से मौत के घाट उतार दिया था। मेवाड के इस वीर योद्धा का नाम था महाराणा कुंभकर्ण जिन्हें राणा कुंभा के नाम से जाना जाता है। महाराणा कुंभा का नाम इतिहास में वीरता और अद्भूत योद्धा के लिये लिया जाता है।


आबु पर किया कब्जा
महाराणा कुम्भा का जन्म मेवाड के महारणा मोकल के घर में हुआ था। महाराणा मोकल की 1431 में मृत्यु हो गयी। जिसके बाद 1433 में मेवाड की गद्दी महाराणा कुम्भा को मिली। महाराणा कुम्भा को वीरता अपने पिता महाराणा मोकल से विरासत में मिली थी जो कि एक प्रतापी राजा थे। गद्दी पर बैठने के बाद महाराणा कुम्भा ने अपने दुश्मन देवराज चौहान को हराकर आबु पर कब्जा किया। इसके बाद उन्होनें मालवा की ओर कुच किया और वहां के सुल्तान महमुद खिलजी को हराया। अपनी इस जीत की खुशी में महाराणा कुम्भा ने एक किर्ती स्तम्भ बनवाया जो आज भी प्रसिद्ध है।

मुस्लिम शासकों ने कई बार किये आक्रमण
राणा कुम्भा का विजयी रथ केवल मालवा तक ही नहीं रूका । इसके बाद नागौर,नाराणा, सारंगपुर, अजमेर, बुॅदी, मोडालगढ, खाटू, चाटुस और मण्डोर जैसे क्षेत्रों को जीतकर अपने राज्य में मिला लिया। उनके शत्रुओं ने कई बार उन पर आक्रमण किये लेकिन हर बार उन्हें पराजित होना पडा। मालवा के सुल्तान ने राणा कुम्भा पर पॉच बार हमला किया लेकिन नाकाम रहा। मालवा और गुजरात के मुस्लिम शासकों ने कई बार मिलकर आक्रमण किया लेकिन हर बार मुस्लिम सेनायें परास्त हुयी। महाराणा कुम्भा ने दिल्ली के सुल्तान सयैद मुहम्मद शाह को भी अपनी वीरता का लोहा मनवाया।


इस राजा ने किया था धोखा
राणा के विजय अभियान में सबसे बडी जीत 1455 में हुयी नागौर की लडाई को माना जाता है जिसमें उन्होने वहां के राजा मुजाहिद खॉ को हराकर शम्स खॉ को वहां का राजा बना दिया। लेकिन शम्स खॉ ने गद्दी पर बैठते ही राणा कुम्भा से बगावत कर दी। ऐसे में राणा कुम्भा ने एक बार फिर नागौर पर चढाई कर दी। राणा कुम्भा के जबरदस्त हमले में शम्स खॉ की हार हुयी और वह जान बचाकर गुजरात के बादशाह कुतुबुद्दीन के पास पहॅुच गया। और उनकी सेना लेकर एक बार फिर शम्स खॉ राणा कुम्भा से जाकर भिड गया लेकिन फिर उसे मुॅह की खानी पडी और वह युद्ध हार गया।


हर बार विजयी हुये
जब गुजरात के राजा कुतुबुद्दीन को यह खबर मिली तो वह खुद सेना लेकर राणा कुम्भा से लडने आ पहुॅचा लेकिन राणा कुम्भा तो अजेय थे और उन्होनें कुतुबुद्दीन की सेना के छक्के छुडा दिये और यह युद्ध जीत लिया। लेकिन जिस समय राणा कुम्भा नागौर की लडाई में व्यस्त थे उसी समय मालवा के सुल्तान ने उनके कई क्षेत्रों पर अधिकार कर लिया। लेकिन नागौर के युद्ध को जीतने के बाद राणा कुम्भा ने अपने खोये हुये क्षेत्रों पर पुनः अधिकार कर लिया।

जनता के प्रिय थे
राणा कुम्भा की ख्याति एक अजेय योद्धा के रूप में हो चुकी थी उन्होनें कई युद्धों को जीता और मेवाड में करीब 32 दुर्गो को निर्माण करवाया जिनमें कुम्भलगढ, चित्तोडगढ और अचलगढ कुछ बडे उदाहरण है। राणा कुम्भा वीर योद्धा होने के साथ साथ ही एक न्यायप्रिय राजा भी था उसके किये अच्छे कार्यो की वजह से मेवाड की जनता भी उन्हें बहुत चाहती थी। लोगों को यह विश्वास हो गया था कि महाराणा कुम्भा के रहते मेवाड की गद्दी से उन्हें कोई नहीं हटा सकता। उनकी लोकप्रियता दिन ब दिन बढती जा रही थी।
इस तरह हुयी हत्या
महाराणा कुम्भा की लोकप्रियता से उनका बडा बेटा उदयसिंह खुश नहीं था जो कि एक राणा कुम्भा के विपरित महत्वकांक्षी और क्रुर व्यक्ति था। वह चाहता था कि जल्द से जल्द उसे मेवाड की गद्दी मिल जाये लेकिन राणा कुम्भा के रहते यह संभव नहीं था। इसलिये उसने अपने पिता को मारने की साजिश रची वह जानता था कि उसे पता था कि सुबह भगवान शिव की पुजा करने वह निहत्थे मंदिर जाते है। वह राणा कुम्भा के मंदिर में आने से पहले ही मंदिर में जाकर छिप गया और जब राणा कुम्भा मंदिर जब भगवान की पुजा कर रहे थे तब उसने सन 1468 में अपने पिता के खुन से उस मंदिर को लाल कर दिया और खुद मेवाड की गद्दी का मालिक बन बैठा।


उनके बाद मेवाड का छिन गया वैभव
उदा सिंह चतुर प्रशासक और कुशल योद्धा नहीं था यही वजह थी कि उसने सत्ता में आने के 5 साल के भितर ही मेवाड के बडे क्षेत्र को खो दिया। राजपूत सरदारों के विरोध की वजह से उदा सिंह को हटाकर उसके छोटे भाई राजमल को गद्दी पर बिठाया गया जिसने 1473 से 1509 तक शासन किया। 1509 में राजमल की मृत्यु के बाद उनका बेटा संग्राम सिंह मेवाड का राजा बना जिसे राणा सांगा के नाम से जाना जाता है। जिन्होंने 1527 की प्रसिद्ध खानवा की लडाई लडी जिसमें मुगल बादशाह बाबर से उन्हें हार का सामना करना पडा। और यह राज्य मुगल सल्तनत के अधीन चला गया।

राणा कुम्भा की वीरता की गवाही के रूप में आज भी किर्ति स्तम्भ मौजुद है जो उनकी वीरता की गवाही दे रहा है। महाराणा कुम्भा जैसे वीर विरले ही पैदा होते है जिन्होनें अजेय रहकर इतिहास में अपना नाम स्वर्ण अक्षरों में दर्ज करा लिया।

ये भी जरूर पढ़ें :
सात हाथी भी नहीं हिला पाये थे इस पत्थर को, स्वर्ग से गिरा था धरती पर !

क्या आपको पता है समूद्र मंथन में निकला अमृत कलश कहां पर है ?

ये थी वो वजह जिसके कारण लडा गया महाभारत का युद्ध कुरूक्षेत्र में

 

Related Article

Tags: , , ,
  • Most Viewed Posts

  • एस्ट्रोलॉजी [ और पढ़ें ]

    भूलकर भी न करें इन 7 वस्तुओं का दान, नहीं तो हो जायेगें बर्बाद !

    भूलकर भी न करें इन 7 वस्तुओं का दान, नहीं तो हो जायेगें बर्बाद !

    May 4, 2018 11:55 am

    अपने जन्म के समय से जानें क्या है आपका भविष्य !

    अपने जन्म के समय से जानें क्या है आपका भविष्य !

    May 27, 2018 10:34 pm

    खेल [ और पढ़ें ]

    भारतीय क्रिकेट टीम में खेलने के लिये छोड़ा था इस क्रिकेटर ने अपना देश

    भारतीय क्रिकेट टीम में खेलने के लिये छोड़ा था इस क्रिकेटर ने अपना देश

    September 25, 2017 11:29 am

    कहॉ है 2011 वर्ल्ड कप विजेता टीम का गुमनाम हीरो !

    कहॉ है 2011 वर्ल्ड कप विजेता टीम का गुमनाम हीरो !

    April 1, 2018 8:36 pm

    टेक्नोलॉजी [ और पढ़ें ]

    हार्ले डेविडसन जैसी दिखने वाली इस बाईक की बुकिंग हुयी शुरू, किमत 1 लाख से कम

    हार्ले डेविडसन जैसी दिखने वाली इस बाईक की बुकिंग हुयी शुरू, किमत 1 लाख से कम

    April 25, 2018 6:48 pm

    एयरसेल लाया जियो को टक्कर देने के लिए सबसे सस्तें और बेहतर प्लान

    एयरसेल लाया जियो को टक्कर देने के लिए सबसे सस्तें और बेहतर प्लान

    July 15, 2017 5:45 pm

    ट्रेंडिंग [ और पढ़ें ]

    गुजरात का यह चुनाव कांग्रेस हारकर भी जीत गई !

    गुजरात का यह चुनाव कांग्रेस हारकर भी जीत गई !

    December 18, 2017 6:58 pm

    अंतिम संस्कार के बाद घर लौट आई बेटी!

    अंतिम संस्कार के बाद घर लौट आई बेटी!

    May 5, 2018 4:03 pm

    देश - दुनिया [ और पढ़ें ]

    81 वर्षीय सन्त से इतना क्यों डरता है चीन

    81 वर्षीय सन्त से इतना क्यों डरता है चीन

    81 वर्षीय सन्त से इतना क्यों डरता है चीन

    April 1, 2018 1:55 pm

    इतने रूपये रखते है मुकेश अंबानी अपनी जेब में, हर मिनिट की कमाई है इतनी !

    इतने रूपये रखते है मुकेश अंबानी अपनी जेब में, हर मिनिट की कमाई है इतनी !

    March 20, 2018 11:41 am

    रोचक खबर [ और पढ़ें ]

    ‘ओम बन्ना’ का मंदिर बना आस्था का पर्याय, बुलेट से मांगी जाती है मन्नत

    ‘ओम बन्ना’ का मंदिर बना आस्था का पर्याय, बुलेट से मांगी जाती है मन्नत

    June 20, 2017 7:29 pm

    जानें क्‍यों 118 साल से गिरफ्तार है यह पेड़ !

    जानें क्‍यों 118 साल से गिरफ्तार है यह पेड़ !

    May 3, 2018 1:13 pm

    व्यक्ति विशेष [ और पढ़ें ]

    इस व्यक्ति ने 5 टन सोना देकर की थी भारत सरकार की मदद

    इस व्यक्ति ने 5 टन सोना देकर की थी भारत सरकार की मदद

    April 1, 2018 3:04 pm

    मोदी के प्रभावी भाषणों के पीछे इन पॉच लोगों की है टीम !

    मोदी के प्रभावी भाषणों के पीछे इन पॉच लोगों की है टीम !

    February 7, 2018 1:58 pm

    सिनेमा [ और पढ़ें ]

    इस सुपरहिट फ़िल्म के तीनों सितारे कहाँ खो गए !

    इस सुपरहिट फ़िल्म के तीनों सितारे कहाँ खो गए !

    January 18, 2018 1:34 pm

    भगवान होने का सबुत चाहिये तो इस विडियो को जरूर देखें !

    भगवान होने का सबुत चाहिये तो इस विडियो को जरूर देखें !

    February 15, 2018 3:45 pm

    सियासत [ और पढ़ें ]

    बालासाहब ठाकरे कैसे बने एक कार्टूनिस्ट से हिन्दू हृदय सम्राट !

    बालासाहब ठाकरे कैसे बने एक कार्टूनिस्ट से हिन्दू हृदय सम्राट !

    January 24, 2018 7:11 pm

    चीन ये जान ले 1962 से अलग है 2017 का भारत

    चीन ये जान ले 1962 से अलग है 2017 का भारत

    June 30, 2017 6:10 pm

    हेल्थ [ और पढ़ें ]

    अगर आप भी पीछे की जेब में पर्स रखते है तो ये खबर खास आपके लिये है !

    अगर आप भी पीछे की जेब में पर्स रखते है तो ये खबर खास आपके लिये है !

    April 19, 2018 3:59 pm

    इन साधारण नुस्खों का इस्तेमाल करके आप रोक सकते है बालों का झडना !

    इन साधारण नुस्खों का इस्तेमाल करके आप रोक सकते है बालों का झडना !

    May 14, 2018 4:32 pm