Follow Us

Hindustancalling

Hindustan Calling

सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा

स्वतंत्रता का वो पहला सिपाही आखिर क्यों भुला दिया गया ?

mm

भारत के स्वतंत्रता आंदोलन में कई ऐसे नाम है जो आज भी गुमनाम है। वे नाम तथ्यों के अभाव में भले ही इतिहासकारों के लिए मिथक बने हुए हो, लेकिन जनश्रुतियों में अपनी जगह बना चुके है। उन्हीं नामों में से एक नाम है तिलका माँझी। 1857 की क्रांति से लगभग सौ साल पहले स्वाधीनता का बिगुल फूंकने वाले देश के प्रथम स्वतंत्रता सैनानी को इतिहास के पन्नो में भले ही जगह ना मिली हो, लेकिन अंग्रेजी हुकूमत की जड़ें हिला देने वाले इस आदिवासी वीर को कभी भुलाया नहीं जा सकता। चलिए आज आपको देश के प्रथम स्वतंत्रता सेनानी तिलका माँझी के बारे में बताते है।

जंगल के परिवेश में बीता तिलका माँझी का बचपन

तिलका माँझी का जन्म 11 फरवरी, 1750 को बिहार के ‘तिलकपुर’ गाँव के एक संथाल परिवार में हुआ था। इनके पिता का नाम ‘सुंदरा मुर्मू’ था। तिलका माँझी को ‘जाबरा पहाड़िया’ के नाम से भी जाना जाता था। बचपन से ही तिलका माँझी जंगली सभ्यता की छाया में धनुष-बाण चलाते और जंगली जानवरों का शिकार करते। कसरत-कुश्ती करना, बड़े-बड़े वृक्षों पर चढ़ना-उतरना, बीहड़ जंगल और घाटी में घूमना, नदियों में तैरना, भयानक जानवरों से छेड़खानी आदि उनका रोजमर्रा का काम था। जंगली जीवन ने उन्हें निडर व वीर बना दिया था।

अंग्रेज़ी अत्याचारों ने पैदा की प्रतिशोध की भावना

किशोर जीवन से ही अपने परिवार तथा जाति पर उन्होंने अंग्रेज़ी सत्ता का अत्याचार देखा था। अनाचार देखकर उनका खून खौल उठता और अंग्रेज़ी सत्ता से टक्कर लेने के लिए उनके दिल और दिमाग में विद्रोह की लहर पैदा होती। गरीब आदिवासियों की भूमि, खेती, जंगली वृक्षों पर अंग्रेज़ी शासक अपना अधिकार करते जा रहे थे। आदिवासियों के बच्चों, महिलाओं और बूढ़ों को अंग्रेज कई प्रकार से प्रताड़ित करते थे। आदिवासियों के पर्वतीय अंचल में पहाड़ी जनजाति का शासन था। वहां पर बसे हुए पर्वतीय सरदार भी अपनी भूमि, खेती की रक्षा के लिए अंग्रेज़ी सरकार से लड़ते थे। पहाड़ों के इर्द-गिर्द बसे हुए ज़मींदार अंग्रेज़ी सरकार को धन के लालच में खुश रखते थे। आदिवासियों और पर्वतीय सरदारों की लड़ाई रह-रहकर अंग्रेज़ी सत्ता से हो जाती थी और पर्वतीय ज़मींदार वर्ग अंग्रेज़ी सत्ता का खुलकर साथ देता था।

तिलका ने फूंका विद्रोह का बिगुल

आखिर वो दिन भी आ गया, जब तिलका माँझी ने ‘बनैचारी जोर’ नामक स्थान से अंग्रेजो के विरुद्ध विद्रोह शुरू कर दिया। वीर तिलका मांझी के नेतृत्व में आदिवासी वीरों के विद्रोही कदम दूर-दूर तक जंगली क्षेत्रों की तरफ बढ़ रहे थे। राजमहल की भूमि पर पर्वतीय सरदार अंग्रेज़ी सैनिकों से टक्कर ले रहे थे। स्थिति का जायजा लेकर अंग्रेज़ों ने क्लीव लैंड को मैजिस्ट्रेट नियुक्त कर राजमहल भेजा। क्लीव लैंड अपनी सेना और पुलिस के साथ चारों ओर देख-रेख में जुट गया। हिन्दू-मुसलमान में फूट डालकर शासन करने वाली ब्रिटिश सत्ता को तिलका माँझी ने ललकारा और विद्रोह शुरू कर दिया।

अंग्रेज अफसर क्लीवलैंड की हत्या और तिलका का खौफ

तिलका माँझी अपनी सेना लेकर अंग्रेज़ी सरकार के सैनिक अफसरों के खिलाफ पर्वतीय इलाकों में छिप-छिप कर लड़ाई लड़ते रहे। क्लीव लैंड एवं सर आयर कूट की सेना के साथ वीर तिलका की कई स्थानों पर जमकर लड़ाई हुई। समय पाकर तिलका माँझी एक ताड़ के पेड़ पर चढ़ गए। ठीक उसी समय राजमहल के सुपरिटेंडेंट क्लीव लैंड को तिलका माँझी ने अपने तीरों से मार गिराया। क्लीव लैंड की मृत्यु का समाचार पाकर अंग्रेज़ी सरकार डांवाडोल हो उठी। सत्ताधारियों, सैनिकों और अफसरों में भय का वातावरण छा गया।

जाउदाह की गद्दारी और तिलका की शाहदत

एक रात तिलका माँझी और उनके क्रान्तिकारी साथी जब एक उत्सव में नाच गाने की उमंग में खोए थे, तभी अचानक एक गद्दार सरदार जाउदाह ने अंग्रेजों के साथ संथाली वीरों पर आक्रमण कर दिया। इस अचानक हुए आक्रमण से तिलका माँझी तो बच गये, किन्तु अनेक सैनिक शहीद हो गये। कुछ को बन्दी बना लिया गया। तिलका माँझी ने वहां से भागकर पर्वतीय अंचल में शरण ली। अंग्रेज़ी सेना ने उन्हें पकड़ने के लिए जाल बिछा दिया। अन्न के अभाव में उनकी सेना भूखों मरने लगी। तिलका माँझी के नेतृत्व में संथाल आदिवासियों ने अंग्रेज़ी सेना पर प्रत्यक्ष रूप से धावा बोल दिया। युद्ध के दरम्यान तिलका माँझी को अंग्रेज़ी सेना ने घेर लिया और बन्दी बना लिया। सन 1785 में एक वटवृक्ष में रस्से से बांधकर तिलका माँझी को फ़ाँसी दे दी गई।

तिलका माँझी ऐसे प्रथम व्यक्ति थे, जिन्होंने भारत को ग़ुलामी से मुक्त कराने के लिए अंग्रेजो के विरुद्ध सबसे पहले आवाज़ उठाई थी, जो 90 साल बाद 1857 में स्वतंत्रता संग्राम के रूप में पुनः फूट पड़ी थी। क्रान्तिकारी तिलका माँझी की स्मृति में भागलपुर में कचहरी के निकट, उनकी एक मूर्ति स्थापित की गयी है।

ये भी पढ़ें:
इजरायल की किताबों में आज भी पढ़ाए जाते हैं ‘हाइफा’ की जंग में हिन्दुस्तानी बहादुरी के किस्से

आखिर चीन के इस गाँधी ने कह दिया दुनिया को अलविदा

 

Related Article

Tags: ,
  • Most Viewed Posts

  • एस्ट्रोलॉजी [ और पढ़ें ]

    जानें अघोरियों की रहस्यमयी दुनिया के बारे में !!

    जानें अघोरियों की रहस्यमयी दुनिया के बारे में !!

    April 25, 2018 5:16 pm

    एक शाकाहारी मगरमच्छ जो करता है मंदिर की सुरक्षा, मरकर दोबारा जिंदा हो जाता है !

    एक शाकाहारी मगरमच्छ जो करता है मंदिर की सुरक्षा, मरकर दोबारा जिंदा हो जाता है !

    April 24, 2018 12:37 pm

    खेल [ और पढ़ें ]

    आखिर क्यों चुने गये रवि शास्त्री भारतीय किक्रेट टीम के कोच ?

    आखिर क्यों चुने गये रवि शास्त्री भारतीय किक्रेट टीम के कोच ?

    July 11, 2017 9:30 pm

    एक भूल और मिल्खा के हाथ से फिसला रोम ओलम्पिक पदक !

    एक भूल और मिल्खा के हाथ से फिसला रोम ओलम्पिक पदक !

    August 31, 2017 8:51 pm

    टेक्नोलॉजी [ और पढ़ें ]

    ये यूजर्स नहीं कर पायेंगे वाट्सएप का इस्तेमाल

    ये यूजर्स नहीं कर पायेंगे वाट्सएप का इस्तेमाल

    June 11, 2017 7:19 pm
    भारत को मिला एक ओर नया ब्रहमास्त्र

    भारत को मिला एक ओर नया ब्रहमास्त्र

    भारत को मिला एक ओर नया ब्रहमास्त्र

    June 6, 2017 5:36 pm

    ट्रेंडिंग [ और पढ़ें ]

    1.20 लाख की यह जबरदस्त कार देगी 36 किमी प्रति लीटर का माइलेज !

    1.20 लाख की यह जबरदस्त कार देगी 36 किमी प्रति लीटर का माइलेज !

    April 23, 2018 4:51 pm

    आज ही करे आवेदन, प्रधानमंत्री की इस योजना से बनाये अपना स्वयं का घर

    आज ही करे आवेदन, प्रधानमंत्री की इस योजना से बनाये अपना स्वयं का घर

    May 8, 2018 2:37 pm

    देश - दुनिया [ और पढ़ें ]

    एक ऐसा चुनाव जिसने बदलकर रख दी देश की तकदीर !

    एक ऐसा चुनाव जिसने बदलकर रख दी देश की तकदीर !

    April 1, 2018 11:45 am

    कोहीनूर हीरा आखिरी बार इस राजा के सर का ताज बना था

    कोहीनूर हीरा आखिरी बार इस राजा के सर का ताज बना था

    June 27, 2017 5:01 pm

    रोचक खबर [ और पढ़ें ]

    क्या आप जानते है जापान की ये 14 रोचक बाते ?

    क्या आप जानते है जापान की ये 14 रोचक बाते ?

    क्या आप जानते है जापान की ये 14 रोचक बाते ?

    June 9, 2017 7:20 pm
    कहता है यह शहर, कहीं और जाकर मर

    यहां पर मरना मना है, 70 सालों से नहीं हुई एक भी मौत !

    यहां पर मरना मना है, 70 सालों से नहीं हुई एक भी मौत !

    March 29, 2018 6:37 pm

    व्यक्ति विशेष [ और पढ़ें ]

    नीता अंबानी 54 साल की होने पर भी है फिट, ये है उनके फिट रहने के पीछे वजह !

    नीता अंबानी 54 साल की होने पर भी है फिट, ये है उनके फिट रहने के पीछे वजह !

    April 10, 2018 8:28 pm

    एक हादसे ने बना दिया इस शक्स को मेडिसिन बाबा !

    एक हादसे ने बना दिया इस शक्स को मेडिसिन बाबा !

    March 29, 2018 12:10 pm

    सिनेमा [ और पढ़ें ]

    अगर ऐसा होता है तो क्या फिर जेल जाएगे संजय दत्त

    अगर ऐसा होता है तो क्या फिर जेल जाएगे संजय दत्त

    July 29, 2017 2:39 pm

    सलमान की एक किस ने बदल दी इस मॉडल की किस्मत !

    सलमान की एक किस ने बदल दी इस मॉडल की किस्मत !

    May 19, 2018 1:54 pm

    सियासत [ और पढ़ें ]

    क्या वाकई में हो रहा है भारत कांग्रेस मुक्त….?

    क्या वाकई में हो रहा है भारत कांग्रेस मुक्त….?

    July 28, 2017 2:25 pm

    आखिर क्यों पाकिस्तान का कोई भी प्रधानमंत्री अपना कार्यकाल पूरा नही कर पाया

    आखिर क्यों पाकिस्तान का कोई भी प्रधानमंत्री अपना कार्यकाल पूरा नही कर पाया

    August 1, 2017 2:59 pm

    हेल्थ [ और पढ़ें ]

    बोतलबंद पानी में होते है ये नुकसानदायक तत्व, हो जायें सावधान !

    बोतलबंद पानी में होते है ये नुकसानदायक तत्व, हो जायें सावधान !

    March 19, 2018 8:08 pm

    कितनी सच्चाई है इन बातों में की मरने के बाद भी बढते है बाल और नाखुन !

    कितनी सच्चाई है इन बातों में की मरने के बाद भी बढते है बाल और नाखुन !

    March 29, 2018 6:34 pm